Our Stories

Ms. Parsi Garasiya

Ms. Parsi Garasiya

गरासिया समाज की एक किशोरी, जिसका नाम पारसी है | पारसी झामेला फली की रहने वाली है | इस फली में सड़के, पानी, बिजली, सवास्थ्य सेवाएँ, शिक्षा एवं अन्य सरकारी सेवाए सबकी स्थिति बदहाल है | घरों की आपस में दूरी भी लगभग 1 किलोमीटर है | पारसी के 2 भाई एवं 6 बहने है, पारसी घर की सबसे छोटी…

Read More
Sh. Lokesh Kumari Awasthi

Sh. Lokesh Kumari Awasthi

लक्ष्मंगढ़ ब्लॉक के एक छोटे से गाँव खुडीयाना का रहने वाले इस किशोर का नाम लोकेश कुमार अवस्थी है | लोकेश के तीन भाई एवं एक बहन है |  बचपन में लोकेश जातीगत भेदभाव किया करता था, जैसे यदि वो विद्यालय में पानी की बोतल भूल जाए तो वह पुरे दिन बिना पानी पिये रहता था और शाम को अपने घर आने…

Read More
Ms. Lalita Prajapat

Ms. Lalita Prajapat

धणी गाँव की रहने वाली 22 वर्षीय ललिता प्रजापत एक गरीब परिवार से है | वह अपनी उदासी भरी दुनिया में खोयी रहती थी | वह ना किसी से अपने मन की बात कहती और ना ही कोई उससे उसकी मन बात पूछता | ललिता पढाई में बहुत होशियार है, और वह डॉक्टर बनना चाहती थी | इसलिए वह घर…

Read More
Ms. Shobha Kumari

Ms. Shobha Kumari

पाली जिले के एक छोटे से गाँव कोट सोलंकियान की रहने वाली है शोभा कुमारी का घर अरावली की तलहटी के करीब है | शोभा का प्रतिदिन बकरी चराने एवं खेत पर काम करने में बीता करता था | पढाई की इच्छा रखने वाली यह किशोरी कई वर्षो तक शिक्षा से वंचित रही, जबकि घर में इसका बड़ा भाई स्कूल…

Read More
Ms. Manisha

Ms. Manisha

फलोदी से 30 किलोमीटर दूर चारणाई गाँव है | इस गाँव में मासूम सी दिखने वाली चंचल स्वाभाव की 11 वर्षीय मनीषा कभी विद्यालय गयी ही नहीं थी | इसलिए मनीषा को ना तो हिंदी पढ़ना आता था और ना ही लिखना | वह साफ़ सफाई की बातों से भी अनभिज्ञ थी | लेकिन दूसरा दशक के इखवेलो से जुड़ने…

Read More