Our Stories

Bassi ka Babu

Bassi ka Babu

“बस्सी का बाबू” बाबूलाल उम्र 19 साल बस्सी ब्लॉक के गांव माधोगढ गांव का रहने वाला, रंग सांवला रेगर समुदाय से ताअल्लुक रखता है। पिता श्री किशनलाल घर की 19 बकरियां है जिनको चराने का काम करते है। माता श्रीमती मोता देवी घर के काम-काज के साथ-साथ मजदूरी भी करती है ताकि परिवार को मदद कर सकें। बाबूलाल के 5…

Read More
Farid ki Kahani Aasin ki Zubani

Farid ki Kahani Aasin ki Zubani

फरीद की कहानी आसीन की जुबानी दूसरा दशक परियोजना लक्ष्मणगढ़ के वर्तमान कार्यक्षेत्र के गांवों में से एक गांव बड़ौली, जिसकी विकासखण्ड से दूरी छः किलोमीटर है। मुख्य सड़क से चार किलोमीटर अन्दर की ओर स्थित है। करीब 13 वर्ष का फरीद बहुत सुन्दर, चंचल, रंग गोरा, कजरारी आंखों वाला है। इसके वालिद का नाम आस मौहम्मद और इसकी वालिदा…

Read More
Shuruaat Khud Se Hi

Shuruaat Khud Se Hi

शुरूआत खुद से ही (नौमान, लक्ष्मणगढ) पहली बार साल 2007 में नौमान सात दिवसीय जीवन कौशल शिक्षा प्रशिक्षण के माध्यम से दूसरा दशक से जुड़ा था । परियोजना में सहभागी का सफर तय करते हुए वह इखवेलो प्रभारी के पद तक पहुंचा है । उसमें दूसरा दशक के मूल्यों जैसे ईमानदारी, सत्यनिष्ठा, जैंडर संवेदनशीलता और पारदर्शिता आदि की झलक साफ…

Read More
Meri Kahani-Meri Zubani: Sangeeta

Meri Kahani-Meri Zubani: Sangeeta

म्हारी कहानी-म्हारी जुबानी मैं, गांव जोबा के श्री मांगीलाल देवासी के घर जन्मी तीन भाई बहनों में सबसे छोटी 15 साल की संगीता हॅूं। मैं, जब 3 साल की थी तभी मेरी मां हमें छोड़कर कहीं और चली गई। जिसका आज तक कोई पता नहीं चला। हालांकि पिताजी ने गुमशुदगी की पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवायी थी। लेकिन पुलिस उल्टा…

Read More
Dimag Me Hai Bhedbhav Ka Keeda (Vimla, Desuri)

Dimag Me Hai Bhedbhav Ka Keeda (Vimla, Desuri)

दिमाग में है- भेदभाव का कीड़ा विमला,  देसूरी अरे ! हमारी पानी की मटकी से दूर रहना, नहीं तो हमारे पानी में कीड़े पड़ जायेंगे। तथाकथित ऊँची जाति की एक लड़की ने विमला और उसकी बहिन को ये बात बोली । यह बात सुनकर विमला को बहुत गुस्सा आया और उसने कहा- ऐसा क्या है हममें ? जो तुम्हारी मटकी…

Read More
Somawati Sapera Ki Dastan (Laxmangarh)

Somawati Sapera Ki Dastan (Laxmangarh)

सोमवती सपेरा की दास्तान सोमवती, लक्ष्मणगढ सपेरावास में रहने वाली सोमवती की दास्तान तो छोटी सी, मगर उसमें सांप की चाल जैसी टेढ़ी मेढ़ी घुमावदार तकलीफों की दास्तान है। उसका परिवार भीख मांगकर अपनी गुजर बसर करता है।  घर के नाम पर तिरपाल का बना एक तम्बू जिसमे वह अपने वृद्ध दादा और दादी के साथ रहती है । खाने…

Read More
Youth Leader: Sakaram

Youth Leader: Sakaram

युवा नेतृत्वकर्ता: सकाराम पिण्डवाडा वर्ष 2007 से पिण्डवाडा में दूसरा दशक की शुरूआत से ही सकाराम का जुड़ाव रहा है। उसने जीवन कौशल प्रशिक्षण से पहली बार दूसरा दशक की गतिविधियों से जुड़ना शुरू किया जो आज तक जारी है। ऊँची-नीची पहाड़ियों वाले गाँव घरट में रहने वाले सकाराम ने कला जत्था कार्यक्रमों में गांव-गांव जाकर उसे मजबूती दी और…

Read More
Har Prakar Ki Samsya Ka Samadhan: Shivji

Har Prakar Ki Samsya Ka Samadhan: Shivji

हर प्रकार की समस्या का समाधानः शिवजी पीसांगन विकासखंड   जीवन में कुछ करने की चाह हो और मेहनत करने की तैयारी हो तो मंजिल मिल ही जाती है। बस दूसरा दशक जैसा कोई मददगार हाथ सही रास्ते पर ले चले तो कोई भी अपना सपना पूरा कर ही लेता है । ऐसा ही हुआ एक खेतिहर मजदूर परिवार में…

Read More
Samajik Kuritiyan aur Garibi, Suresh- Bassi

Samajik Kuritiyan aur Garibi, Suresh- Bassi

सामाजिक कुरीतियाँ एवं गरीबी (सुरेश,बस्सी) दुबले पतले, गेहुँए रंग के साधारण व्यक्तित्व वाले सुरेश बस्सी की पहाडियों के बीच बसे बैनाडा गाँव से है। पिताजी जयपुर में प्राईवेट नौकरी करते है, माँ घरेलू कार्य के साथ-साथ मनरेगा में मजदूरी करती है । कक्षा 10 में पढने वाला सुरेश खुद को हीन समझता था क्योकि वह एस.सी समुदाय से है। 2007…

Read More
Krishna, Bassi

Krishna, Bassi

मै कृष्णा बस्सी से मैं कृष्णा गांव बांसखोह बस्सी विकासखण्ड की रहने वाली हॅू। परिवार में माता-पिता व दो भाई है। वर्तमान में मैं बी.ए. तृतीय वर्ष में अध्ययनरत हूँ। मेरा परिवार पेन्टिग्स् कार्य से जुडा हुआ है। मेरी माँ श्रीमती पार्वती देवी घर के कार्य के साथ ही किराने की छोटी सी दुकान भी चलाती है। हमारें गांव में…

Read More
Samaj ko Vimal Karti

Samaj ko Vimal Karti "Vimla"

समाज को विमल करती ‘विमला’ (विमला देसूरी)   हमेशा की तरह विमला अपने घर के आगे झाडू लगा रही थी I अचानक पीठ पर हाथ का स्पर्श हुआ । मुड़कर देखा तो यह वही बुजुर्ग पुजारी था I जिसकी बुरी नजर और इरादों का सामना विमला बचपन से करती आई थी । आज विमला चुप नहीं रही और शोर मचाकर…

Read More
Rishto ki Sodebaaji

Rishto ki Sodebaaji

रिश्तो की सौदेबाजी संगीता देसूरी   राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों में कई जातियों में ”आटा-साटा“ प्रथा प्रचलित है । इसके अंतर्गत यदि एक परिवार में किसी लड़के की शादी करनी है, तो उसके परिवार से एक लड़की की शादी भी उसके ससुराल में किसी से करनी होगी । जिस परिवार में लड़कियां नहीं हैं, उनके लड़कों की शादियाँ भी इस…

Read More
Mrityubhoj Mukt Mera Ganv

Mrityubhoj Mukt Mera Ganv

मुत्युभोज मुक्त मेरा गांव-मानसिंह   यह वही मानसिंह है जो हर वक्त चुप्पी साधे रहता था। पढ़ाई और साफ-सफाई से कोई लेना-देना नहीं। सारा दिन जंगल में गाय-भैंस चराते, कंची खेलते हुए मौज-मस्ती में ही गुजार देता। हमेशा कम बोलने वाले, शर्मिले स्वभाव का नौजवान मानसिंह आज खुलकर अपने मन की बातें आसानी से कह पाता है। छोटे से गांव…

Read More